देवर और भाभी की एक्स एक्स एक्स

Image source,फोटो.xxx

Image caption,

ब्लू ब्लू दिखाएं: देवर और भाभी की एक्स एक्स एक्स, मैं उनके इस खेल से बहुत प्रभावित हुआ। इतनी समझ तो बस दिल्ली की खेली खाई चुदक्कड़ औरतों में ही देखी थी लेकिन आज पता चला कि चूत रखने वाली हर औरत अपनी चुदाई के लिए हर तरह की समझदारी रखती हैं… फिर चाहे वो बड़े बड़े शहरों की लण्डखोर हों या छोटे शहरों की शर्माती हुई देसी औरतें !.

राजस्थान पत्रिका बाड़मेर जैसलमेर

मैने अपना हाथ वापिस खींच लिया. मैं बस उशे छू कर कहना चाहता था कि तुम मेरी जींदगी हो. पर उसकी बात मुझे बिल्कुल बुरी नही लगी. वैसे भी जो आपकी जान हो उसकी बात क्या कभी बुरी लगती है.. आज यहां पर बारिश होगी या नहींऋतु मैं अपनी ग़लती मानता हूँ, इश्लीए सब कुछ भुला कर मुंबई आया हूँ. मुझे अब ये भी याद नही है कि मुझे किसी से बदला लेना है. मैं थक चुका हूँ. मुझे आज बस एक बात याद है, और वो ये है कि मैं तुम्हे प्यार करता हूँ -------- बिल्लू ने मेरे हाथो को थाम कर कहा..

पता नही जतिन, मैं खुद हैरान हूँ कि में कैसे तुम्हे प्यार कर सकती हूँ, पर जो भी है ये सच है कि आइ लव यू, क्या तुम्हे पता है कि तुम मुझे क्यों प्यार करते हो ---- ऋतु ने पूछा. सबसे ज्यादा बिकने वाली कारएक प्यार का फूल जो बस खीलने ही लगा था, मुरझा गया. बिल्लू के साथ मेरी जो एक हंसिन जींदगी हो सकती थी, होने से पहले ही खो गयी. मुझे बिल्लू को ये कहने का मोका भी नही मिला कि आइ लव यू टू..

नेहा भी तेज़ी से साँसे लेते हुए धीरे-2 सिसकारिया भरने लगी. और अभी ने अपने लंड को सुपाडे तक मेरी चूत से बाहर निकाल लिया. और वहीं रुक गया..देवर और भाभी की एक्स एक्स एक्स: अभी सब ठीक हो जाएगा,बहू.मुझपे भरोसा रखो.,विरेन्द्र जी उसके चेहरे को प्यार से सहलाने लगे.थोड़ी देर बाद बिना लंड को और अंदर घुसाए वो रीमा को बहुत धीरे-2 चोदने लगे.शुरू मे तो रीमा को तकलीफ़ हुई पर कुच्छ मिनिट के बाद उसे मज़ा आने लगा.वो आहें भरती हुई कमर हिलाने लगी..

वह चुप-चाप खड़ा हुवा खामोसी से मुझे घूरता रहा, मैं भी उसे देखती रही. ना जाने मुझे क्या हो गया था करीब 2 मिनूट तक हम अपनी- अपनी जगह खड़े हुवे एक दूसरे को देखते रहे. यही मेरी छोटी सी भूल थी, क्योंकि मैं जाने अंजाने उसे एक मोका दे रही थी. मुझे उस वक्त नही पता था कि मैं किस आग से खेल रही हूँ..ये क्या कर रहे हैं... छ्चोड़ दीजिए इन्हे... प्लीज़... स्नेहा ने रवि का हाथ पकड़ कर राज को छुड़ाने की कोशिश करते हुए कहा....

महा शिवरात्रि क्यों मनाया जाता है - देवर और भाभी की एक्स एक्स एक्स

वो उसकी चूत मे लंड डाले उसे पीछे से थामे थोड़ी दे पड़े सुबक्ती हुई रीमा के बॉल चूमते रहे.जब वो शांत हुई तो उन्होने उसकी चूत से लंड निकाला & उसे अपनी ओर घुमा उसेआपनी बाहों मे भर लिया.रीमा ने भी उनके सीने मे मुँह च्छूपा लिया & हाथ पीछे ले जा उनकी पीठ पे फेरने लगी..और मे धीरे-2 अभी के लंड को सॉफ करने लगी. जैसे ही मे अभी के लंड को सॉफ करने लगी. अभी के लंड का गुलाबी सुपाड़ा चॅम्डी पीछे खिसकने से बाहर आ गया. मेरी नज़र अभी के लंड के सुपाडे पर गढ़ गयी. मे चाह कर भी अपनी नज़रें अभी के छोटे सेब जैसे गुलाबी मोटे सुपाडे से हटा नही पा रही थी..

भोजन करने के पश्चात मैं अपने बिस्तर पे आके लेट जाता हूँ और रानी विशाखा भी आके मेरे समीप लेट जाती हैं। मैं रानी विशाखा से पूछता हूं रानी आप कह रही थीं के कबीले के महिला और पुरुष सम्भोग के मामले में स्वछंद हैं इसका क्या मतलब है. देवर और भाभी की एक्स एक्स एक्स रीत-चलो एक अलमारी में नीतू न्ड करू दीदी आप अपने कपड़े सेट कर लो न्ड दूसरी में मैं और कूटी कर लेते हैं..

रीमा तड़प उठी & कमर उचका लंड को चूत के अंदर & अपनी बाहो से उसके जिस्म को अपने उपर लेने की नाकाम कोशिश करने लगी..

தமிழ் செஸ் நியூ?

देवर और भाभी की एक्स एक्स एक्स जैसा कि सब जानते हैं.. इस लड़की ने अपने पति राज सिंघानिया का खून किया है और ऐसा करते हुए वहाँ खड़े नौकरोने ने देखा था..जो इस खून के चस्मदीद गवाह हैं..इसलिए मेरी अदालत से दरख़्वास्त है कि मुलज़िमा को कड़ी से कड़ी सज़ा दी जाए.. थ्ट्स ऑल..

मुझे कोई दिलचस्प बात बताओ? सट्टा खेलने का तरीका

देवर और भाभी की एक्स एक्स एक्स मामी अभी भी अपने हाथों से तकिये को थामें हुए थी…मे मामी के ऊपेर से हट कर उनकी बगल मे लेट गया…और अपनी साँसों को दुरस्त करने लगा….

भाई दूज क्यों मनाते हैं

मनीष मुझे रूम नो 102 में ले आया. उसने होटेल वालो से कोई अरेंज्मेंट करके 102 की एक चाबी अपने पास रख रखी थी.. मैने कहा, अगर ऐसा है तो किसी और से शादी कर लो, मैने तुम्हे मजबूर नही किया है. तुम किसी भी वक्त ये सगाई तोड़ कर किसी और को अपना जीवन साथी चुन सकते हो..

देवर और भाभी की एक्स एक्स एक्स ठीक है,आपने जिस बिरादरी को कुच्छ नही बताया है,आपको वो बिरादरी मुबारक हो.मुझे आपसे या आपकी बिरादरी से कुच्छ लेना-देना नही.अगर इस घर मे मेरी पत्नी की इज़्ज़त नही होगी तो उसे मैं अपनी बेइज़्ज़ती समझूंगा..

आसमान नीला क्यों होता है

आज का मौसम कैसा रहेगा हिंदी मेंछ्चोड़िए ना!अभी नही.,अपनी सास का बिस्तर थी करती रीमा को विरेन्द्र जी ने पीछे से दबोचा तो वो छितक कर उनसे अलग हो गयी,अभी भाय्या हैं घर मे.प्लीज़ आज नही..

जब हमारी साँसे संयमित हुई तो मैंने दोनों से पुछा आप दोनों को एक साथ सम्भोग करने में कोई दिक्कत तो नहीं हुई. दीप्ति ने कहा, अगले दिन मनीष ने सूर्या होटेल में मेरे लिए सारा इंतज़ाम कर दिया था, ताकि मैं अपनी आँखो से सुरेश (महेश) की करतूत देख पाउ..

‘अरे इसकी कोई जरूरत नहीं है… बस थोड़ी सी जलन है ठीक हो जायेगा।’ मैं भी उसके पीछे पीछे तौलिया लपेटे बढ़ गया।.

नेहा ने अभी की इस बात पर कुछ नही बोला. और शरमाते हुए मुस्करा कर अपेनी नज़रें झुका ली. नेहा के हाथ अभी की छाती पर बालों मे थे. उसके हाथों की उंगलिया धीरे -2 अभी के चेस्ट के बालो मे घूम रही थी..

रीमा ने आँख के कोने से देखा की शेखर खाने मे मगन है तो उसने मिन्नत भरी नज़र से अपनी ससुर को देखा & पैर अलग करने की कोशिश की पर उन्होने मज़बूती से उसकी टांग पे अपने पाँव का दबाव बनाए रखा & बहुत हल्के से 1 शरारत भरी मुस्कान उसकी तरफ फेंकी..

ईमेल आईडी कैसे बनाएं तभी उन्होने अपने 1 हाथ मे कोई चीज़ ले उसे अपने चेहरे पे रख लिया,रीमा के मुँह से तो हैरत की चीख निकलते-2 बची,ये उसका रुमाल था जो किसी तरह उसके ससुर के हाथ लग गया था & वो उसे अपने चेहरे पे लगा,उसकी खुश्बू सूंघते हुए मूठ मार रहे थे..

सेक्स करने वाली लड़की का नंबर

देवर और भाभी की एक्स एक्स एक्स: मैं अपना ध्यान वाहा से हटा कर अपनी जॉब के बारे में सोचने लगी कि कैसी होगी ये नौकरी, मुझे अछी लगेगी कि नही.. रीमा चलने लगी.दुकान मे सजावट के लिए दीवारो पे शीशे लगे थे.चलते हुए रीमा ने सामने के शीशे मे देखा तो पाया कि उसके ससुरे उसकी मटकती गंद को घूर रहे हैं,सेल्समन उनके साथ बैठे किसी और ग्राहक को जुटे दिखा रहा था.रीमा ने अपने ससुर को और तड़पाने के लिए गंद कुच्छ ज़्यादा मटकाने लगी..